URL क्या हैं और यह कैसे काम करता हैं? 

यू०आर०एल URL जिसका पूरा नाम या यू०आर०एल की फुल फॉर्म हैं- Uniform Resource Locator. वर्तमान समय में आप इंटरनेट के उपयोग के माध्यम से जिस भी जानकारी या सूचना को प्राप्त करते हैं वह सब इसी के माध्यम से आप तक पहुचती हैं। जी हाँ इंटरनेट में अपलोड होने वाली प्रत्येक सामग्री का एक Unique Code होता हैं। जिसे हम यू०आर०एल कहते हैं। 

यह एक ऐसा कोड होता हैं जो आपको सूचना या इंटरनेट में मौजूद निर्धारित सामग्री की ओर आपको Redirect करता हैं। इसी यूनिक कोड या लिंक के माध्यम से आप किसी भी Web Page से आसानी से पहुँच जाते हैं। यू०आर०एल को Web Address के नाम से भी जाना जाता हैं, क्योंकि यह किसी वेबसाइट या किसी वेब पेज का पता बताने में समर्थ होता हैं। 

url kya hota hai

सामान्य शब्दों में कहें तो यू०आर०एल ही वह कड़ी या रास्ता होता हैं जिसके माध्यम से यूजर किसी वेबसाइट है वेबपेज तक पहुँच पाता हैं। तो दोस्तों चलिए आज इसी संबंध में विस्तृत रूप से जानने का प्रयास करते हैं कि यू०आर०एल क्या हैं और यह कैसे काम करता हैं? What is URL in Hindi 

यू०आर०एल क्या हैं? – What is URL in Hindi 

यूनिफॉर्म रिसोर्स लोकेटर (यू०आर०एल) जिसे यूनिवर्सल रिसोर्स लोकेटर भी कहा जाता हैं। इसका मुख्य कार्य इंटरनेट में मौजूद संसाधनों (वेबपेज, वीडियो, इमेज, टेक्स्ट ट्यूटोरियल) की लोकेशन का पता लगाने और इसे एक्सेस करने या इन संसाधनों तक पहुँचने के लिए उपयोग किये जाने वाला एक प्रोटोकॉल हैं। 

यह किसी वेब संसाधन की लोकेशन को इंगित करता हैं जैसे किसी विशेष वेबसाइट के किसी वेब पेज की लोकेशन इंगित करना। सामान्यतः जब आप किसी Web Browser का उपयोग करते हैं और किसी वेबपेज को शेयर करना चाहते हैं तो आप उस वेब पेज या किसी भी प्रोफाइल का Link कॉपी करके, उसे अपने मित्रों को शेयर कर देते हैं। यह लिंक सामान्यतः Blue कलर से इंगित होता हैं। 

जिसके बाद यदि आपका मित्र उस लिंक में क्लिक करता हैं तो वह लिंक आपके दोस्तों को सीधे उस वेब पेज या प्रोफाइल के पास Redirect कर देता हैं। जिस पेज का लिंक आपने अपने मित्र को भेजा होता हैं। वेब ब्राउज़र में मौजूद प्रत्येक डेटा जो इंटरनेट में सेव होता हैं। उन सभी के भिन्न-भिन्न यू०आर०एल होता हैं। जिसे Web Address भी कहा जाता हैं, क्योंकि यह उस वेबपेज का एड्रेस होता हैं। जिसे सुरक्षित कर या जिसका उपयोग कर आप एक लंबी प्रोसेस से बच कर डायरेक्ट उस पेज में पहुँच सकते हैं। 

किसी वेबसाइट का यू०आर०एल दो भागों से मिलकर बना होता हैं और यह वेब पेज की तुलना में छोटा होता हैं, जबकि वेब पेज का यू०आर०एल तीन या चार भागों से मिलकर बना होता हैं और यह वेब साइट के यू०आर०एल की तुलना में बड़ा होता हैं। 

किसी वेबपेज के यू०आर०एल का उदाहरण-

https://webtechnoo.com/url-kya-hota-hai-hindi

किसी वेबसाइट के यू०आर०एल का उदाहरण- 

https://webtechnoo.com

इसी तरह प्रत्येक वेबपेज का उदाहरण भिन्न-भिन्न होता हैं। 

यू०आर०एल की विशेषता – features of URL 

सामान्यतः यू०आर०एल की मुख्य विशेषता उसके कार्य करने के तरीकों और उपयोगों में निहित होती हैं। जैसे- 

1. प्रोटोकॉल का नाम :// से जुड़ा हुआ होता हैं। जैसे आपको ऊपर उदाहरणों में दिख रहा हैं। 

2. किसी यू०आर०एल कस माध्यम से आप किसी वेबसाइट या वेब पेज को सीधे एक्सेस कर सकते हैं या उस पर सीधे पहुँच सकते हैं। 

3. यह किसी वेबसाइट या वेब पेज का यूनिक एड्रेस होता हैं जो यूजर को उस एड्रेस में सीधे Redirect कर देता हैं। 

4. यू०आर०एल प्रोटोकॉल (://), डोमेन (website name), पोर्ट नंबर और फ़ाइल या डेटा के आधार पर अपना समस्त कार्य करता हैं। 

5. किसी वेबसाइट का यू०आर०एल वेबपेज की तुलना में छोटा और कम अक्षरों का होता हैं। 

6. सामान्यतः किसी वेबपेज पर किसी वेबपेज या वेबसाइट के URL का Default Color ब्लू होता हैं। 

यू०आर०एल के भाग – Parts of URL

किसी वेबसाइट के URL को दो भागों और किसी वेबपेज के यू०आर०एल को चार भागों में विभाजित किया जाता हैं। जिसे हम इस तरीके से समझ सकते हैं- 

1. Protocol – प्रोटोकॉल सामान्यतः वेबसाइट या वेबपेज के यू०आर०एल का प्राथमिक भाग होता हैं जो https:// या http, ftp:// से शुरू होता हैं। यह एक प्रकार का Network Protocol होता हैं जो रिसोर्स को सीधे रूप से एक्सेस करने का कार्य करता हैं। 

2. Domain – प्रत्येक वेबसाइट का वेबपेज का भिन्न-भिन्न डोमेन होता हैं। जो अलग-अलग DNS (Domain Name Server) से जुड़ा होता हैं। जिसे वेब एड्रेस या IP Address के रूप में भी देखा जा सकता हैं। उदाहरण- वेबसाइट का नाम और उसके बाद .com, .in, .co, .org आदि। 

3. Path – पाथ (/)वह होता हैं जो किसी वेबसाइट में किसी वेबपेज के एड्रेस को जोड़ने का कार्य करता हैं। जैसे- https://webtechnoo.com/url-kya-hota-hai-hindi

यहाँ पर .com के बाद लगने वाला स्लेस / जो वेबपेज को वेबसाइट से जोड़ रहा हैं। इसी symbol को यूआरएल में पाथ कहा जाता हैं। 

4. Webpage – वेबपेज किसी पोस्ट या पेज का Permalink होता हैं। जो किसी वेबपेज को एक एड्रेस प्रदान करने का कार्य करता हैं। इसकी मुख्य विशेषता यह होती हैं कि यह एक जैसा कंटेंट दिखाने वाले वेब पेज का एक जैसा permalink भी हो सकता हैं। वेबपेज को यू०आर०एल Protocol, Domain और Path के बाद इंगित करता हैं। जैसे – ऊपर दिए उदाहरण में / के बाद जो url-kya-hota-hai-hindi हैं वह वेबपेज के एड्रेस को इंगित करने वाला उदाहरण हैं।

यू०आर०एल कैसे काम करता हैं? – How URL Works in Hindi 

सामान्य शब्दों में हम कहें तो यू०आर०एल IP Address (62.252.111.32) के आधार पर अपना समस्त कार्य करता हैं। इसी को आधार बनाकर कंप्यूटर हमें सीधें रूप से वेबपेज या वेबसाइट को एक्सेस करने की अनुमति देते हैं। इन IP Address को भिन्न-भिन्न अंको में याद करना मुश्किल होता हैं। जिस कारण हम इसके भागों के उपयोग करते हैं जो सामान्य दैनिक उपयोग होने वाले अंग्रेजी अक्षरों की तरह होते हैं। जिसे आसानी से याद किया जा सकता हैं। 

परंतु आंतरिक रूप से सिस्टम IP Address के आधार पर ही कार्य करता हैं। इसे उदाहरण के रूप में समझें तो जब हम किसी वेबसाइट या वेबपेज का यू०आर०एल टाइप करते हैं तब वेब ब्राउज़र उस वेबसाइट के DNS (Domain Name Server) की सहायता से यू०आर०एल को Corresponding IP में परिवर्तित कर देता हैं। जिसकी सहायता से हम सिर्फ Keyword का उपयोग कर उस वेब पेज या वेबसाइट में पहुँच जाते हैं। 

निष्कर्ष – Conclusion 

यू०आर०एल (Uniform Resource Locator) एक प्रकार का एड्रेस होता हैं जो किसी वेबसाइट या वेबपेज के एड्रेस को इंगित करने का कार्य करता हैं। इसका उपयोग कर हम किसी वेबसाइट के पेज को सीधे एक्सेस कर सकते हैं। सामान्य शब्दों में कहें तो यह इंटरनेट पर मौजूद किसी कंटेंट का यूनिक एड्रेस होता हैं। 

प्रत्येक सूचना या डेटा जो इंटरनेट में मौजूद होता हैं उस तक पहुँचने के लिए यू०आर०एल का ही उपयोग किया जाता हैं। तो दोस्तों आज आपने हमारी इस आसन शब्दों एवं उदाहरणों वाली पोस्ट के माध्यम से जाना कि यू०आर०एल क्या हैं और यह कैसे काम करता हैं? (What is URL in Hindi) हम आशा करते हैं कि आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आई हो। इस पोस्ट से संबंधित प्रश्नों के उत्तर प्राप्त करने एवं अपने विचार प्रकट करने के लिए कमेंट बॉक्स का उपयोग करें। 

Previous articleUses of Computer in Hindi |कंप्यूटर के उपयोग
Next articleAnalog और Digital Computer क्या हैं? दोनों में अंतर
Hello दोस्तों मेरा नाम Pankaj Pal हैं और मैं webtechnoo का लेखक और Co-Founder हुँ। मैंने MSc Computer Science से की हैं और मुझे Technology, Computers से जुड़े तथ्यों को सीखना और आप लोगों को सीखाना अच्छा लगता हैं। अगर आप भी नई-नई Technology के बारे में जानने में रुचि रखते हैं। तो हमारे Blog या Social Media के माध्यम से हमसे जरूर जुड़े रहें। (Jai Hind)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here